#Tubebuddy Excellent Stats Plugin for Your Videos

https://www.Tubebuddy.com/hemant1977

Advertisements

दिल की ख़लिश

है सिर्फ इतना ही तो होता क्यूँ है बेमुरव्वत बेवक़्त ही होता क्यूँ है इश्क़ है सुना ख़ुदा की इबादात फ़िर दर्द इसमें इतना होता क्यूँ है ख़लिश सी उठीती है अश्क़ों सी नदी बहती है कोई तो बन जाता है अपना सा फिर वो इस हाल में छोड़ जाता क्यूँ है है सिर्फ़ इतना …

Continue reading दिल की ख़लिश

गुरूर

मैं खुद ही ख़ुदा हो जाऊं है कैसा मुझ में ये गुरूर ख़ुद का दुश्मन बन जाऊं जहाँ को भी दफ़्न कर आऊँ ये कैसा है बन गया इंसान कौन सा ख़ुदा का दर्स ना सोचा होगा उसने की इंसां ऐसी भी कर लेगा शक़्ल दर्ज़ लहू का प्यासा हुआ क्यूं क्यूं नफ़रत हैं जेहन …

Continue reading गुरूर

गुज़रा इश्क़

जहाँ तुमसे हो गई थी ख़तम वो इश्क़ की दास्तां ज़ानिब मैं अब भी उस राह का मुसाफ़िर बन मंज़िल पे हूँ क़ायम तो क्या अब इक तरफ़ा हो गया मंज़िल का ये रास्ता तौफ़ीक़ तो अब भी बरकरार है मेरी तुझे गैरों से हस्ता हुआ देखा था यहाँ तो ज़ख़्म जुदाई के अब भी …

Continue reading गुज़रा इश्क़

गुमनाम लम्हें

समँदर की लहरों सा उनका आना और जाना रेत में हमारा नाम यूँ मिट जाना कुछ तो साज़िशें करता होगा मुझसे ये ज़माना लहरें छूने को तड़प उठीती होंगी याद कर अजनबियों का फ़साना रोज़ का वहीँ मिलना, रोज़ ही बिछड़ जाना वो रेत पे निशाँ छोड़ते क़दम लहरों का उन्हें बेवज़ह मिटा जाना रोज़ …

Continue reading गुमनाम लम्हें