SafarTheJourney

दिल की ख़लिश

है सिर्फ इतना ही तो होता क्यूँ है

बेमुरव्वत बेवक़्त ही होता क्यूँ है

इश्क़ है सुना ख़ुदा की इबादात

फ़िर दर्द इसमें इतना होता क्यूँ है

ख़लिश सी उठीती है

अश्क़ों सी नदी बहती है

कोई तो बन जाता है अपना सा

फिर वो इस हाल में छोड़ जाता क्यूँ है

है सिर्फ़ इतना सा तो होता क्यूँ है

तूफ़ान सा उठता भी है

दर्द का दरिया बहता भी है

कोई तो ख़्वाब है अपना सा

फ़िर पतों सा भिखर जाता क्यूँ है

है सिर्फ़ इतना सा तो होता क्यूँ है

आह दिलोँ में होती भी है

अश्कों की बारिश होती भी है

कोई तो रहनुमा है अपना सा

फ़िर रक्स सा दिल में उतर जाता क्यूँ है

है सिर्फ़ इतना सा तो होता क्यूँ है

Facebook Comments