SafarTheJourney

गुमनाम लम्हें

समँदर की लहरों सा

उनका आना और जाना

रेत में हमारा नाम

यूँ मिट जाना

कुछ तो साज़िशें करता होगा

मुझसे ये ज़माना

लहरें छूने को तड़प उठीती होंगी

याद कर अजनबियों का फ़साना

रोज़ का वहीँ मिलना, रोज़ ही बिछड़ जाना

वो रेत पे निशाँ छोड़ते क़दम

लहरों का उन्हें बेवज़ह मिटा जाना

रोज़ उस मंज़र पे मोहहबत हो जाना

सहर होते बस यादोँ का रह जाना

अभी कुछ रोज़ पहले ही जवां थीं

ख़्वाहिशों का यूँ बेवक़्त दफ़न हो जाना

अब तो ढूंढ ही लिया है उन्न लम्हों ने

ज़हन में आना और रुख्सत हो जाना

Facebook Comments