SafarTheJourney

दायरा

रिश्तों के कुछ नाम हों

मेरे मोहहले के लिए ही सही

उन्न कुछ चुनिंदा लोगों के लिए

मेरी घुटन के कुछ नाम तो हों

है कौन वो जो मेरे होने का हक़

इतने हक़ से जताते हैं

गर उनके साथ नहीं तो

अजनबी सा चेहरा दिखा जातें हैं

मेरी साँसों को उनका कर्ज़ दिखा

रोज़ उधार सा कुछ मांग लेते हैं

ख़ुद उनका कुछ झुलस सा रहा

फ़िर मुझे ख़ाक करने का सबब क्या

कुछ दुआ सलाम के चलते

क्यों मेरा ज़ायका उनके ज़ायके सा हो

मुझे क्यूं उनके सा है जीना

जब मेरी मंज़िल का वो हिस्सा नहीं

है वो कौन जो मेरे जीने का दायरा तय करें

मुझे ख़ुदा ने नवाज़ा मेरे जीने का रास्ता

मुझसे ही तय औऱ मुझसे ही ख़त्म हो।

Facebook Comments